“चोपता” भारत का मिनी स्विट्ज़ेरलेंड

लोग भागदौड़ की ज़िंदगी से कुछ पल सकुन से जीने और आत्म शांति के लिए नयी जगहों की सैर पर जाते हैं. ९ से ५ की जॉब से बोर होने के बाद हर कोई चाहता है घूमना फिरना फिर चाहे कोई भी नयी जगह क्यूँ ना हो. हम इस पोस्ट में एक बहुत ही खूबसूरत जगह के बारे में आपको बताएँगे. जिस जगह के बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं उसको भारत का मिनी स्विट्ज़ेरलेंड (Mini Switzerland of India) कहा जाता है. यह जगह है “चोपता” Chopta chandrashila trek in Uttrakhand. जी हाँ “चोपता” जो की उत्तराखंड के चमोली डिस्ट्रिक्ट में स्थित है को हीं भारत का मिनी स्विट्ज़ेरलेंड कहा जाता है. यह हिल स्टेशन उत्तराखंड Chopta hill station uttarakhand का बेहद खूबसूरत हिल स्टेशन हैं. चोपता की समुद्र तल से उँचाई Chopta height 2,680 मीटर (8,790 फुट) हैं. यह ही वो स्थान हैं जहाँ से तुंगनाथ Tungnath Temple और चंद्रशिला Chandrashila trek के लिए पैदल यात्रा शुरू होती है. चोपता से हिमालय की नंदा देवी Nanda devi, त्रिशूल Trishul uttarakhand और चौखंबा Chaukhamba पहाड़ियां बेहद साफ दिखाई देती हैं.

चोपता का नाम जानने के बाद आपके मन में बहुत से प्रश्न उठ रहे होंगे जैसे की चोपता कैसे पहुँचे How to reach Chopta in hindi, चोपता कैसे जाए?  चोपता का मौसम कैसा होता होगा? Chopta temperature चोपता उत्तराखंड होटेल्स Chopta hotels, चोपता उत्तराखंड की दिल्ली से दूरी Chopta distance from delhi, चोपता उत्तराखंड ट्रेक Chopta trek uttarakhand? चोपता उत्तराखंड का मौसम गर्मियों में कैसा होता है chopta uttarakhand weather in summer? चोपता उत्तराखंड टूरिसम & टूरिस्ट प्लेस Chopta uttarakhand tourism & Chopta uttarakhand tourist places, चोपता तुंगनाथ ट्रेक Chopta chandrashila trek uttarakhand. सबसे अच्छा समय चोपता घूमने का Best time to visit chopta chandrashila? चोपता की लिए नज़दीकी रेलवे स्टेशन और बस स्टेशन कौन सा है? ऐसे बहुत से सवाल आपके मन में जरूर उठ रहे होंगे? अगर आप ऐसे ही प्रशनो का उत्तर ढूँढ रहे हैं तो हमारी यह पोस्ट आपकेलिए ज्ञानवर्धक साबित होगी.

चोपता की खूबसूरत वादियाँ- चोपता अपनी खूबसूरती के लिए विश्व प्रसिद्ध है. यहाँ की नैचरल ब्यूटी अनोखी और आलोकिक है. चोपता की खूबसूरती देखकर ब्रिटिश कमिश्नर एटकिन्सन ने कहा था जिसने चोपता नहीं देखा समझो उसका इस धरती पर जन्म लेना बेकार है. आप किसी भी मौसम में चोपता चले जाए आपको यहाँ नैचरल खूबसूरती की कई चीजें एक साथ देखने को मिलेंगी. कल कल बहती हुई नदियाँ, झरने, दुनिया में बहुत कम पाए जाने वेल पशु पक्षी, खूबसूरत पेड़ पौधे और फ्लॉवर्स, कोहरे में लिपटी ऊंची-नीची पहाड़ियां और दूर दूर तक फैले हुए घास के मैदान. जब ही आप यहाँ ट्रेकिंग Treking in Chopta के लिए पहुँचे आपको रास्ते में बुरांश और बांस के पेड़ों की लंबी लंबी कतारें मिल जाएँगी. जिनमें पक्षीयों की मधुर आवाज़ें सुनने को ज़रूर मिलेंगी.

दयारा बुग्याल Dayara bugyal trek in Hindi

dayara bugyal trek photos  dayara bugyal trekking photos

बुग्याल का मतलब होता है घास के खूबसूरत मैदान. दयारा बुग्याल Dayara bugyal trek एक ऐसी ही खूबसूरत जगह है जहाँ दूर दूर तक घास के मैदान और मैदानों में लगे खूबसूरत फूल आपके मन को ज़रूर मोह लेंगे. जनवरी-फरवरी में ये मैदान बर्फ से ढक जाती हैं लेकिन जुलाई-अगस्त में यहां की खूबसूरती देखते ही बनती है. जुलाई-अगस्त के समय यहाँ मीलों तक फैले घास के मैदान और डिफरेंट वरायटी के फूल देखने को मिलते हैं. इसलिए इस घाटी को फ्लावर वेली Flower valley in Uttarakhand भी कहा जाता है.

तुंगनाथ मंदिर- Tungnath mandir uttarakhand

Tungnath temple uttarakhand

चोपता से तुंगनाथ मंदिर (chopta to tungnath mandir distance 3km) के बीच तीन किलोमीटर की पैदल यात्रा पड़ती है. तुंगनाथ मंदिर 13 हजार फीट की ऊंचाई पर स्थित है Tungnath mandir height. तुंगनाथ पहाड़ी की चोटी पर तुंगनाथ मंदिर बना हुआ हैतुंगनाथ मंदिर करीब एक हजार साल पुराना माना जाता है. तुंगनाथ मंदिर में भगवान शिव के पांच केदारों में से एक की पूजा होती है. इस मंदिर का निर्माण पांडवों द्वारा किया गया था. तुंगनाथ जाने का रास्ता पूरा पैदल रास्ता है लेकिन यहाँ पहुँचने के लिए घोड़ों की भी सुविधा मिल जाती है. चोपता से तुंगनाथ मंदिर chopta to tungnath mandir जाने वाले रास्ते में कई ढाबे हैं, जहां चाय-पानी का इंतजाम रहता है.

आधे रास्ते की चढ़ाई चढ़ने के बाद आपको थकान महसूस नही होगी क्यूँ की आधी चढ़ाई चढ़ने के बाद आपको कोई पेड़ नजर नहीं आएगा. दूर दूर तक केवल घास के मैदान ही देखने को मिलेंगे. ये घास के मैदान आपको ऐसे लगेंगे जैसे की घास की चादर आपके स्वागत के लिए बिछाई गई हो. इन खूबसूरत घास के मैदान देखते ही आपकी थकान अपने आप गायब हो जाएगी. आप अपने आपकू एक दूरी दुनिया में पहुँचा हुआ महसूस करोगे. ऐसा लगेगा मानों स्वर्ग अगर कहीं है तो बस यहीं.

चंद्रशिला चोटी-Chandrashila Peak in Hindi

Tungnath mandir uttarakhand

तुंगनाथ पहुँचने के बाद तकरीबन दो किलोमीटर tungnath to chandrashila trek distance की खड़ी चढ़ाई के बाद आपको चंद्रशिला चोटी मिलेगी. चंद्रशिला चोटी Chandrashila peak height समुद्र तल से 14 हजार फीट की ऊंचाई पर स्थित है. चंद्रशिला चोटी पर केवल पैदल ही जाया जा सकता है (how to reach chandrashila peak). चंद्रशिला चोटी हिमालय के बहुत ही करीब है और आपको ऐसा लगेगा मानो आप हाथ बढ़ाकर उसे छू लेंगे. उँचाई अधिक होने के कारण यहां ऑक्सिजन की कमी भी महसूस होगी. लेकिन घबराने जैसी को चीज़ नही हैं.

देवरिया ताल- Deoria Tal Chandrashila

Deoria tal in summer  Deoria tal in winter

चोपता से देवरिया ताल की कुल दूरी आठ किलोमीटर है Distance between chopta to deoria tal. देवरिया ताल तुंगनाथ मंदिर के उत्तरी दिशा में स्थित है. Deoria tal height देवरिया ताल समुद्र तल से 7,999 फुट की उँचाई में स्थित है. देवरिया ताल के आसपास गर्मियों में बर्फ नही मिलती लेकिंग ठंडियों में देवरिया ताल बर्फ से ढक जाता है. देवरिया ताल से आप चौखंभा Chaukhamba peak, नीलकंठ neelkanth peak जैसी हिमालय की बर्फ से ढकी चोटियों देख सकते हैं. देवरिया ताल deoria tal total area 500 मीटर की रेंज में फैला हुआ है. देवरिया ताल के एक तरफ बांस व बुरांश के जंगल हैं जो इसकी खूबसूरती को और भी बढ़ा देते हैं.  इसके दूसरी तरफ खुला मैदान है जहाँ पर्यटक गर्मियों में ट्रेकिंग Deoria tal trek करते हैं और केम्प लगाते हैं.

चोपता जाने का अच्छा समय

Best time to visit chopta chandrashila

चोपता जैसी खूबसूरत जगह देखने के लिए आप कभी भी जा सकते हैं लेकिन यहां जाने के लिए मई से नवंबर तक का समय सबसे अच्छा माना जाता है. इस समय बर्फ तो न्ही मिलेगी देखने को लेकिन अगर आप बर्फ का मजा लेना चाहते हैं, तो यहाँ जनवरी से फरवरी में आ सकते हैं. जनवरी और फ़रवरी के समय आपको बर्फ मिल जाएगी बस ध्यान रहे की ठंड से बचने की सारी व्यवस्था की हो जैसे की उनी कपड़े साथ हो, ठहरने की पहले के बुकिंग हो.

दिल्ली से चोपता की दूरी और रास्ते- Delhi to Chopta distance 406 km

दिल्ली से चोपता बस और रेल मार्ग से आसानी से पहुँचा जा सकता है. Delhi to chopta distance by bus 406 km देल्ही से चोपता पहुँचने के लिए 11-13 घंटे तक लग सकते हैं.  चोपता जो की रुद्रप्रयाग – उखीमठ – गोपेश्वर राजमार्ग पर स्थित है कहीं से भी आसानी से पहुँचा जा सकता है.  चोपता उखीमठ से 40 किलोमीटर और रुद्रप्रयाग से 63 किलोमीटर दूर स्थित है. चोपता से दिल्ली और हरिद्वार से आसानी से पहुंचा जा सकता है. सड़क मार्ग से यहाँ आसानी से पहुँचा जा सकता है. चोपता हरिद्वार से लगभग 225 किलोमीटर दूर है और यहाँ तक पहुँचने में लगभग 7 -9 घंटे लगते हैं. हरिद्वार से चोपता के लिए बस और प्राइवेट टैक्सी सेवाएं हैं जो लगातार चलती रहती हैं.

सड़क / ट्रेन / हवाई मार्ग से चोपता कैसे पहुँचें-

How to Reach Chopta by Road/ Train / Air

चोपता सड़क मार्ग द्वारा – Chopta by Bus

चोपता बाइ बस आसानी से पहुँचा जा सकता है. चोपता पहुँचने के लिए सबसे पहले रुद्रप्रयाग  नेशनल हाइवे 58 का अनुसरण करें और रुद्रप्रयाग पहुँचने के बाद केदारनाथ जाने वाले मार्ग का अनुसरण करें और ऊखीमठ के लिए दाहिनी ओर मुड़े. चोपता उखीमठ से 40 किलोमीटर की दूरी पर है.

चोपता रेल मार्ग द्वारा: Chopta by Rail

चोपता के लिए निकटतम रेलमार्ग ऋषिकेश है जो की 209 किमी दूर स्थित है. ऋषिकेश लास्ट रेलवे स्टेशन है चोपता के लिए. ऋषिकेश से चोपता और उखीमठ के लिए बसें और टैक्सी आसानी से उपलब्ध हैं. अगर आप रेल मार्ग से चोपता पहुँचना चाहते हैं तो आपको ऋषिकेश आना पड़ेगा.

चोपता वायु मार्ग द्वारा: Chopta by Air

चोपता का निकटतम हवाई अड्डा जॉली ग्रांट हवाई अड्डा है. जॉली ग्रांट हवाई अड्डा देहरादून जिले से 226 किलोमीटर दूर स्थित है.जॉली ग्रांट हवाई अड्डे से ऋषिकेश, रुद्रप्रयाग, ऊखीमठ और चोपता के लिए टैक्सी आसानी से उपलब्ध है.

चोपता से प्रमुख शहरों की दूरी – Chopta Distance Chart

दिल्ली से चोपता – 451 किलोमीटर

मेरठ से चोपता – 368 किलोमीटर

ऋषिकेश से चोपता – 209 किलोमीटर

हरिद्वार से चोपता – 225 कि.मी.

देहरादून से चोपता – 246 कि.मी.

मसूरी से चोपता – 212 किमी

उखीमठ से चोपता – 40 किमी

पौड़ी से चोपता – 126  किमी

देवप्रयाग से चोपता – 130 किमी

टिहरी गढ़वाल से चोपता – 151 किलोमीटर

कोटद्वार से चोपता – 229 कि.मी.

जोशीमठ से चोपता – 92 किमी

श्रीनगर से चोपता – 96 किमी

केदारनाथ से चोपता – 64 किमी

रुद्रप्रयाग से चोपता – 63 किमी

गोपेश्वर से चोपता – 37 किमी

बद्रीनाथ से चोपता – 136 किमी

Leave a Comment