हिमा दास की बाइयोग्रफी “उड़न परी”

हिन्दी दैनिक- हिमा दास का जन्म 09 जनवरी 2000 भारत के असम राज्य के ढिंग गाँव Hima Das village में हुआ है. हिमा दास भारत की एक उभरती हुई धाविका हैं. हिमा दास सबसे पहले उस समय सुर्ख़ियों में आई जब उन्होने आईएएएफ वर्ल्ड अंडर-20 एथलेटिक्स चैम्पियनशिप में 400 मीटर दौड़ स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीता Hima das gold medal और ऐसा करने वाली वो भारत की पहली महिला खिलाड़ी बनी. इस दौड़ को पूरा करने के लिए हिमा ने कुल 51.46 सेकेंड का समय लिया और स्वर्ण पदक अपने नाम कर लिया.

पहली और बार अंतराष्ट्रीय स्तर पर गोल्ड मेडल जीतने के बाद हिमा ने फिर कभी मुड़कर नही देखा और लगातार नये नये रेकार्ड अपने नाम कर लिए. 400 मीटर दौड़ मेी गोल्ड जीतने के बाद हिमा ने अप्रैल 2018 में गोल्ड कोस्ट में खेले गए कॉमनवेल्थ खेलों की 400 मीटर की स्पर्धा में 51.32 सेकेंड का समय लेते हुआ छठवाँ स्थान प्राप्त किया तथा 4*400 मीटर स्पर्धा में उन्होंने सातवां स्थान हासिल किया था. इसके बाद हिमा दास ने 18वें एशियन गेम्स 2018 जकार्ता में लगातार दो दिन में दूसरी बार महिला 400 मीटर में राष्ट्रीय रिकार्ड तोड़कर रजत पदक hima das silver medal अपने नाम कर लिया.

Hima Das wins 5th gold of the month in July 2019

हिमा दास ने एक महीने में जीता पांचवां गोल्ड मेडल. इस तरह वह ऐसा करने वाली पहली भारतीय ऐथलीट बनी Hima das wins 5 gold medals in a month. इस युवा ऐथलीट ने अपना शानदार प्रदर्शन जारी रखते हुए हिमा ने एक महीने के भीतर ही पांचवां गोल्ड मेडल जीत लिया है जो की एक रेकॉर्ड है.

Hima Das wins 5th gold of the month
पांचवां गोल्ड मेडल

ढिंग एक्सप्रेस के नाम से मशहूर इस युवा एथलीट ने अपना शानदार प्रदर्शन जारी रखते हुए पूरे विश्व में भारत का नाम रोशन किया है. लगातार 5 गोल्ड मेडल जीतने के बाद लोग उन्हें “भारत की नई उड़न परी” के नाम से पुकारने लग गये हैं. हिमा दास ने शनिवार 20 जुलाइ 2019 को एक और गोल्ड मेडल अपने नाम किया है. चेकगणराज्य में नोवे मेस्टो नाड मेटुजी ग्रां प्री में हिमा दास ने 400 मीटर स्पर्धा में पहला पायदान हासिल किया. इस जीत के साथ ही हिमा ने एक महीने के भीतर ही पांचवां गोल्ड मेडल जीत लिया है.

साल 2019 में हिमा ने पहला गोल्ड 2 जुलाई को ‘पोज़नान एथलेटिक्स ग्रांड प्रिक्स’ में 200 मीटर रेस को 23.65 सेकंड में पूरा कर गोल्ड जीता था. इस जीत ने हिमा को बहुत ज़्यादा कॉन्फिडेन्स मिला जिसका असर देखने को मिला 7 जुलाई 2019 जब उन्होने पोलैंड में ‘कुटनो एथलेटिक्स मीट’ 200 मीटर स्पर्धा को 23.97 सेकंड में पूरा करके दूसरा गोल्ड मेडल हासिल किया. बस इस तरह गोल्ड मेडल जीतने का सिलसिला चलता गया और हिमा ने एक के बाद एक कुल 5 गोल्ड मेडल एक महीने में ही जीत लिए. हिमा ने 2 जुलाई 2019 को पहला, 7 जुलाई को दूसरा, 13 जुलाई को तीसरा, 17 जुलाई को चौथा और 20 जुलाई 2019 को पाँचवा गोल्ड मेडल जीता.

तारीख प्रतियोगिता मेडल
2 जुलाई 2019 पोज़नान एथलेटिक्स ग्रांड प्रिक्स गोल्ड
7 जुलाई 2019 कुटनो एथलेटिक्स मीट गोल्ड
13 जुलाई 2019 क्लांदो मेमोरियल एथलेटिक्स गोल्ड
17 जुलाई 2019 ताबोर एथलेटिक्स मीट 200 मीटर गोल्ड
20जुलाई 2019 ताबोर एथलेटिक्स मीट 400 मीटर गोल्ड

हिमा दास का प्रारंभिक जीवन
Early Life of Hima Das

हिमा का जन्म असम के नगाँव जिले के ढिंग गांव में हुआ. हिमा के पिता का नाम रणजीत दास तथा माता का नाम जोनाली दास है. इनके पिता जी किसान है और माता जी घर का आम संभालती है. हिमा अपने 4 भाई बहिनों में सबसे छोटी हैं. हिमा दास को बचपन में फुटबॉल में रुचि थी और बड़ा होकर फुटबॉल प्लेयर बनना चाहती थी.

हिमा के स्कूल “जवाहर नवोदय विद्यालय” के व्यायाम टीचर शमशुल हक की सलाह पर उन्होंने दौड़ना शुरू किया. शमशुल हक़ ने उनकी पहचान नगाँव स्पोर्ट्स एसोसिएशन के गौरी शंकर रॉय से कराई. बस यहीं से हिमा दास को अपने करियर की पहली सीढी मिल गयी और हिमा जिला स्तरीय प्रतियोगिता में चयनित हुईं और दो स्वर्ण पदक जीत गयी.

इसी प्रतियोगिता के दौरान ‘स्पोर्ट्स एंड यूथ वेलफेयर’ के निपोन दास ने हिमा का खेल देखा और उन्होने ही हिमा के परिवार वालों को हिमा को गुवाहाटी भेजने के लिए मनाया. क्यूंकी की हीमा के गाँव से गुवाहाटी की दूरी 140 किमी है इसलिए शुरूवात में हिमा के माता पिता ऐसा करने के लिए तैयार नही हुए. लेकिन बहुत से लोगों के साथ बातचीत और सुझावों से हिमा के माता पिता को लगा की बेटी को ट्रैनिंग और अच्छी तैयारी के लिए गुवाहाटी भेज देना छाईए और इस तरह पहले मना करने के बाद हिमा दास के घर वाले मान गये और हिमा गुवाहाटी आ कर तैयारी करने लगी.

हिमा दास विकिपीडिया हिन्दी में
Hima Das Wiki in Hindi

हिमा के करियर को सही राह मिली साल 2017 में.  जब हिमा की मुलाकात निपुण दास से “खेल और युवा कल्याण निदेशालय द्वारा आयोजित किए गए इंटर-डिस्ट्रिक्ट कम्पटीशन के दौरान हुई थी. इस प्रतिस्पर्धा में हिमा ने 100 मीटर और 200 मीटर की दौड़ प्रथम स्थान हासिल किया था. हीमा के खेल ने सबका दिल जीत लिया और हर कोई उनकी तारीफ़ करने लगा.

और पढ़ें- कमलेश नागरकोटी की बाइयोग्रफी

हिमा की दौड़ को देखकर निपुण दास ने उन्हें ट्रेन करनी की इच्छा हिमा के माता पिता के सामने जाहिर की. इस तरह हिमा को निपुण दास अपने साथ गुवाहाटी ले आए. क्यूंकी हिमा का परिवार काफी गरीब था इसलिए निपुण दास ने ही हिमा की ट्रेनिंग का सारा खर्चा खुद उठाया. शुरू में निपुण ने हीमा को 200 मीटर रेस के लिए तैयार किया और बाद में 400 मीटर के ट्रेक पर प्रैक्टिस करवाई.

Hima Das Information in Hindi- आइए अब जानते हैं हिमा दास के बारे में

नामहिमा दास
पिता का नाम father Name रणजीत दास
माता का नाम Mother
name
जोनाली दास
जन्म Birth place 9 जनवरी 2000 (आयु 19)
गाँव का नाम Village Name ढिंग, नगाँव, असम
उपनाम Hima Das Nick name ढिंग एक्सप्रेस
राष्ट्रीयता Nationality भारतीय
ऊंचाई Hima Das
Height
5 फुट 5 इंच
वज़न Hima Das
Weight
55 किलो
पेशा (खेल) Sport ट्रैक एंड फील्ड
कोच Hima Das
Coach Name
निपोन दास
धर्म Religon हिन्दू
राशि मकर राशि
रिकॉर्ड विश्व अंडर-20 एथलेटिक्स चैंपियनशिप (400 मीटर) जीतने वाली प्रथम भारतीय महिला

हिमा दास का इंटरनेशनल करियर और व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन (रिकॉर्ड)

हिमा ने बैंकॉक में हुई एशियाई यूथ चैंपियनशिप की 200 मीटर रेस में सातवाँ स्थान प्राप्त किया. इसके बाद हिमा ने ऑस्ट्रेलिया में हुए कॉमनवेल्थ गेम्स में 400 मीटर की दौड़ में छठे स्थान पर रहीं थी. कॉमनवेल्थ गेम्स के बाद हिमा ने वर्ल्ड एथलेटिक्स चैंपियनशिप ट्रैक कॉम्पिटिशन में हिस्सा लिया और कॉम्पिटिशन को जीत लिया था. हिमा विश्व अंडर-20 एथलेटिक्स चैंपियनशिप (400 मीटर) जीतने वाली प्रथम भारतीय महिला हैं और साल 2019 में इन्होने एक ही महीने में लगातार 5 गोल्ड मेडल जीत कर विश्व रेकॉर्ड अपने नाम कर लिए.

और पढ़ें- शुभमन गिल का जीवन परिचय

Hima Das Records

100 मीटर- (11.74 सेकेंड)
200 मीटर- (23.10 सेकेंड)
400 मीटर- (50.79 सेकेंड)
4*400 मीटर रिले- (3:33.61)

Leave a Comment