जिओ ला रहा है बिटकॉइन जैसा जिओकोइन

नई दिल्ली:  क्रिप्टोकरेंसी से रिलेटेड कोई ना कोई नई खबर हर दिन सुनने को मिल जाती है. अब एक ऐसी खबर आ रही है जिसे सुनकर आप भी चोंक जाएँगे. जी हां सुनने में आ रहा है की रिलायंस इंडस्ट्रीज के प्रमुख मुकेश अंबानी क्रिप्टो कॉइन लाने की सोच रहे हैं. यह बिटकॉइन जैसी क्रिप्टोकरेंसी होगी. रिपोर्ट के मुताबिक रिलायंस जियो इंफोकॉम खुद की क्रिप्टोकरेंसी जियो कॉइन लाने की योजना बना ही है। एक रिपोर्ट के अनुसार इस प्रोसेस के लिए जिओ में आकाश अंबानी के नेतृत्व में 50 लोगों की स्पेशल टीम बनाई गयी है जो ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी पर काम कर रही है।  रिपोर्ट के अनुसार जियो कॉइन बनाने वाली टीम में सारे यंग प्रॉफेशनल हैं जो नये आइडियास और मार्केटिंग पर फोकस करेंगे. इस पूरे मामले से जुड़े एक शख्स ने बताया किइस स्पेशल टीम में सभी लोगों की उम्र 25 साल के करीब और टीम का नेतृत्व आकाश अंबानी करेंगे।

पिछले साल जियो लॉंच करने से लेकर अब तक जिओ ने टेलिकॉम मार्केट में नये आयाम कायम कर दिए हैं. फ्री डेटा, फ्री कॉलिंग, फ्री SMS जैसे फीचर देने से जिओ ने बहुत ही कम समय में करोड़ों ग्राहक जोड़ लिए हैं जो की दूसरे टेलिकॉम कंपनीज़ के लिए नयी नयी मुसीबतें खड़ी कर रहा है. जिओ की अपर सफलता के बाद अब जियो अपनी क्रिप्टोकरेंसी लाने की तैयारी कर रही है। जियो का बिटकॉइन जैसी ही जिओ कोइन लाने की खबरों के बीचक्रिप्टोकरेंसी मार्केट में और तेज़ी आने की उम्मीद है.

ब्लॉकचैन टेक्नालजी क्या है blockchain technology in Hindi- ब्लॉकचैन एक डिजिटल लेजर है, जो डेटा को स्टोर करता है. इसमें हर तरह का देता सेव होता है खास कर फाइनैंशल ट्रांजेक्शन.  लेकिन इसका ड्रॉ बैक यह है की भारत में यह लिमिटेड नहीं है। ब्लॉकचैन एक क्लाउड कॉन्सेप्ट है जिसमें डेटाबेस फिजिकल सर्वर पर स्टोर नहीं किया जाता है. ब्लॉकचैन किसी भी डेटा को कॉपी किए बिना डिसेंट्रलाइज्ड करता है। यह डेटा डेटाबेस के माध्यम से ब्लॉकचैन पर शेयर किया जाता है, जिसे रियल-टाइम में आसानी से प्राप्त किया जा सकता है।

Jiocoin rates in India

रिलायंस जियो के अपने खुद का वर्जन जिओ कोइन बनाने की योजना से क्रिप्टोकरेंसी मार्केट में जोरदार उछाल देखने को मिल सकता है.  जिओ क्रिप्टोकरेंसी का इस्तेमाल सप्लाई चैन मैनेजमेंट के लिए भी किया जा सकता है। और लॉयल्टी पाइंट भी पूरी तरह से जिओ कोइन पर आधारित हो सकते हैं। हर दिन लाखों लोग क्रिप्टोकरेंसी में निवेश कर रहें जबकि भारत सरकार बारबार यही कहती रही है की क्रिप्टोकरेंसी एक तरह की पॉंज़ी स्कीम है जो भारत में मान्य नही है.

जिओ कोइन की खबर ऐसे समय आई है जब बिटकॉइन को दक्षिण कोरिया ने प्रतिबंध लगा दिया है। इस खबर के आते ही पूरी दुनिया में बिटकॉइन के रेट में 12 प्रतिशत की कमी आई है.  बिटकॉइन के साथ-साथ दूसरे कोइन जैसे की रिपल और इथेरम के रेट में भी गिरावट दर्ज की गयी है. हालांकि जियो ने अभी तक इस खबर पर अपना कोई आधिकार बयान नही दिया है। लेकिन रिपोर्ट में दावा किया गया है की जिओ कोइन पर अभी काम शुरुआती स्टेज में है इसलिए अभी से कुछ कह पाना जल्दबाजी ही होगी.

Leave a Comment