प्रेग्नेंसी सम्बंधित प्रश्न और उनके उत्तर

प्रेगनेंसी को लेकर लोगों में बड़ी उत्सुकता होती है। परुष हो या महिला या फिर घर का हर सदस्य, प्रेगनेंसी यानि गर्भावस्था को लेकर उनके मन में बहुत से सवाल होते हैं बहुत से अनसुलझे तथ्य होते हैं जिससे वो बहुत परेशान भी होते हैं और उत्सुक भी रहते हैं उनके बारे में जानने के लिए।

पहली बार माँ बनने वाली महिलाओं को बहुत सी चीजें परेशान करती करती है जैसे की उन्हें पता नहीं होता की किन चीजों का ध्यान रखना चाहिए और क्या करना चाहिए, प्रेगनेंसी में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं, प्रेगनेंसी में क्या होता है Pregnancy me kya hota hai और बहुत सी महिलाएं ऐसी भी होती हैं जो इस दुविधा में रहती हैं की वह प्रेगेंट है या नहीं? आज हम ऐसे ही बहुत से सवाल और उनके उत्तर ले कर आएं हैं जो ऐसी महिलाओं के लिए बहुत लाभकारी शाबित होंगे।

Frequently asked questions about pregnancy in Hindi

आइये जानते हैं प्रेग्नेंसी से सम्बंधित प्रश्न और उनके उत्तर
गर्भावस्था क्या है? Garbhavastha Kya Hai
गर्भावस्था के लक्षण Pregnancy Symptoms
आसानी से गर्भधारण कैसे करें? How to get pregnant easily
गर्भधारण के लिए सही समय क्या है?
गर्भावस्था के दूसरे सप्ताह के लक्षण क्या होते है?
क्या गर्भावस्था में पीरियड्स होते हैं?

गर्भावस्था क्या है? What is Pregnancy in Hindi

गर्भावस्था का मतलब होता है “गर्भ की अवस्था” यानी यह वह समय होता है जब महिला के गर्भ में पुरुष का शुक्राणु और महिला का अंडा मिलकर भ्रूण बनाते है। शुक्राणु और अंडा के मिलने से ही भ्रूण बनता है और धीरे-धीरे भ्रूण एक शिशु का रूप ले लेता है। इस प्रक्रिया को गर्भावस्था या प्रेगनेंसी कहते हैं।

प्रेगनेंसी के लक्षण Pregnancy Symptoms in Hindi

प्रेग्नेंसी के बहुत से लक्षण होते हैं। इन लक्षणों से आप पता लगा सकती हैं की आप प्रेग्नेंट हैं या नहीं।

  1. प्रेगनेंसी का मुख्य लक्षण पीरियड्स का बंद होना है। अगर किसी महिला के शाररिक सम्बन्ध बनाने के बाद पीरियड्स बंद हो गए हैं हो सकता है की महिला प्रेग्नेंट हो। पीरियड्स बंद होने का मतलब है की महिला के गर्भाशय में अंडा और शुक्राणु मिलकर भ्रूण को निषेचित कर रहे हैं। कभी कभार पीरियड्स के बंद होने के दूसरे कारण भी हो सकते हैं जैसे की पीरियड्स डेट्स का नियमित न होना या अत्यधिक प्रेग्नेंसी कण्ट्रोल पिल्स के उपयोग से।
  2. स्तनों में भारीपन महसूस होना और निप्पल्स का रंग गहरा होना। किसी भी महिला को गर्भावस्था के शुरूआती दिनों के दौरान स्तनों में भारीपन और उनके आकार में परिवर्तन महसूस हो सकता है। साथ ही निप्पल्स का रंग गहरा हो जाता है नसें मोटी हो जाती हैं।
  3. उलटी और जी मिचलाना। गर्भावस्था के शुरूआती दिनों में अधिकतर महिलाओं को उलटी और जी मिचलाने जैसे समस्या हो सकती है। इसलिए घबराने की जरुरत नहीं। उलटी और जी मिचलाने ज़्यादातर एक महीने बाद शुरू होती है।
  4. सिरदर्द होना –  हार्मोन्स में परिर्वतन होने के कारण सिरदर्द होता है और यह गर्भावस्था के शुरूआती दिनों में होता है।
  5. बार बार पेशाब का आना। क्यूंकि गर्भाशय बड़ा होता है जिस कारण मूत्राशय पर दबाव पड़ता है और बार बार पेशाब आता है।
  6. खाने की इच्छा न होना। गर्भावस्था के दौरान बहुत सी महिलाओं को खट्टे खाने की इच्छा होती है। तो कुछ का खाने के प्रति कोई रूचि नही होती।
  7. पीठदर्द और पेट में ऐंठन- गर्भावस्था के दौरान पीठ दर्द और पेट में ऐंठन महसूस होती है। यह एक सामान्य प्रक्रिया है जो हर एक प्रेनेंट महिला के साथ होता है।
  8. कब्ज़ और एसिडिटी – चूंकि गर्भावस्था के दौरान डॉक्टर महिला को आयरन और कैल्शियम की दवाई देते है जिस कारण बहुत सी महिलाओं में  कब्ज़ और एसिडिटी की शिकायत रहती है। यह समस्या हार्मोनल बदलाव के कारण होती है इसलिए घबराना नहीं चाहिए।
  9. स्वभाव में चिड़चिड़ापन आना और मन व्याकुल होना। प्रेग्नेंसी के शुरूआती दिनों में  ऐसी लक्षण आम होते हैं।

आसानी से गर्भधारण कैसे करें? How to get pregnant easily

आसानी से गर्भधारण करने के लिए महिला को अपने पीरियड्स से ठीक 14 से 18 दिन पहले शाररिक सम्बन्ध बनाने चाहिए। क्यूंकि की ये वो दिन होते है जिन दिनों महिला के फर्टाइल के दिन होते हैं जिनमे ओवुलेशन की प्रक्रिया शुरू होती हैऔर कंसीव करना आसान होता है। आसानी से कंसीव करने के लिए महिला और पुरुष दोनों ही पौष्टिक आहार लें और प्रतिदिन व्यायाम करें। ध्यान रखने वाली बात हैं की शाररिक सम्बन्ध उस पोजीशन में बांयें जिससे की पुरुष का स्पर्म महिला के गर्भाशय तक पहुँच सके और आसानी से अंडे से मिल सके।

जरूर पढ़ें – ओवुलेशन पीरियड क्या होता है?

गर्भधारण का सही समय क्या है? Best time to get conceived

अगर आप भी प्रेगनेंसी प्लान कर रहे हैं तो आपको यह पता होना चाहिए की महीने के कौन से दिन आसानी से कंसीव किया जा सकता है। यानी की आपको पता होना चाहिए की Pregnancy kin dino mein hoti है। ये तो सब को ही पता है की किसी भी महिला का पीरियड्स 4 से 5 दिनों का होता हैं। डॉक्टर्स के अनुसार अगर कोई दंपत्ति गर्भधारण करना चाहता है तो उनको पीरियड्स के 6 वे दिन से अगले 10-11 दिनों के बीच में संबध बनाने चाहिए। किसी भी महिला का ओवुलेशन  समय उसके अगले पीरियड्स शुरू होने से 14 दिन पहले शुरू होते हैं। ध्यान देने वाली बात यह है की ओवुलेशन के दिन और पीरियड्स के 5 दिन बाद का समय महिला के प्रजनन के लिए सबसे उपयुक्त समय मन जाता है।

गर्भावस्था के दूसरे सप्ताह के लक्षण क्या होते है? Pregnancy 2nd week symptoms in hindi

गर्भावस्था के दूसरे सप्ताह तक महिला के शरीर में ज्यादे परिवर्तन नहीं होते हैं। कुछ लक्षण होते हैं जिनसे यह पता लग सकता है की कोई महिला प्रेग्नेंट है या नहीं। गर्भावस्था के दूसरे सप्ताह के लक्षण इस प्रकार होते हैं-

उलटी होना या जी मिचलाना, सिर दर्द होना, भूख न लगना, पीरियड बंद हो जाना, पीठ में दर्द होना, पेट में ऐठन होना, बेचैनी होना, खट्टा खाने को मन करना, स्तनों में भारीपन और निप्पल्स का रंग चेंज होना, बार बार पेशाब का आना, कब्ज और एसिडिटी होना, हार्ट बर्न होना, चिड़चिड़ापन होना.

क्या गर्भावस्था में पीरियड्स होते हैं? kya pregnancy mein periods hote hain

Periods in pregnancy in hindi- बिल्कुल नहीं। एक बार गर्भधारण होने के बाद से लेकर बच्चे के पैदा होने तक पीरियड्स नहीं होते हैं। गर्भ ठहरे के बाद से बच्चेदानी का मुँह बंद हो जाता है जिस कारण महिलाओं में पीरियड आने बंद हो जाते हैं। हाँ कुछ महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान हलकी ब्लीडिंग हो सकती है लेकिन इसका मतलब यह नहीं की इस हलकी ब्लीडिंग को ही पीरियड्स मान लिया जाए. अगर ब्लीडिंग बहुत ज्यादे है तो डॉक्टर की सलाह लेना न भूलें।

पीरियड के दौरान संबंध बनाना सही या ग़लत? Sex during periods is Safe or Not

period ke dauran sambhog karna chahiye ya nahi? पीरियड के दौरान संबंध बनाने से क्या आप प्रेगनेंट हो सकती हैं? यह आपने अक्सर सुना होगा की पीरियड्स के दौरान सेक्स करने से प्रेग्नेंसी नहीं होती। पर क्या ये वाकई सच है? इस सवाल का जबाब है “हां”,

पीरियड के दौरान संबंध बनाने से प्रेग्नेंट होना मुश्किल है पर नामुमकिन नहीं। अगर आप गर्भनिरोधक गोलियां खाती हैं तो आपके प्रेगनेंट होने के चांसेस बहुत कम हो जाते हैं। लेकिन बहुत सी महिलों में देखा गया है की गर्भनिरोधक गोलियां ज्यादे मात्रा में खाने से उनके पीरियड्स नियमित नहीं होते हैं या काम या ज्यादे दिन के हो गए हैं। ऐसी में चांस होता है पीरियड्स के समय उनसेफ शारारिक सम्बन्ध बनाने से आप प्रेग्नेंट हो जाएं। इसलिए पीरियड्स के दौरान मेल पार्टनर्स कॉन्डम का इस्तेमाल जरूर करें। यह इंफेक्शन से बचाएगा।

Menstural Cycle or MC क्यों आता है? Mc kyu aati hai in hindi

मासिक धर्म / माहवारी चक्र किसे कहते हैं? पीरियड के समय दर्द? पीरियड्स अनियमित हैं? मासिक धर्म में क्या खाना चाहिए? मासिक धर्म में इन्फेक्शन से कैसे बचें? ऐसी हजारों प्रश्न होते हैं जिनका अक्सर लोग जबाब खोजते हैं।

Menstural Cycle or MC जिसे “मासिक धर्म ” भी कहते हैं की क्रिया की एक मुख्य भूमिका है गर्भधारण pregnancy करने में सहायता करना । मासिक चक्र के शुरू होने पर हर महीने महिलाओं में अंडा गर्भाशय नाल में रिलीज़ होता है जिसे ovulation कहा जाता है। ओवुलेशन पीरियड के समय शारारिक सम्बन्ध बनाने से गर्भ ठहरने के ज्यादे चांस होते हैं। अगर आप यह सवाल करें की पीरियड्स के कितने दिन बाद प्रेग्नेंट होया जा सकता है तो इसका जबाब है मंथली पीरियड के 6 वें दिन से अगले 11 दिन तक.

प्रेगनेंसी और पीरियड्स से रिलेटेड दूसरे प्रश्न Question related to Preganncy and MC Periods

पीरियड में संबंध बनाने से क्या होता है? Period me sambandh banane se kya hota hai
मासिक धर्म के दौरान सम्बन्ध बनाना या न बनाना दोनों पार्टनर्स पर निर्भर करता है। अगर दोनों पार्टनर सहमत हैं तो सम्बन्ध बनाया जा सकता है लेकिन सेफ्टी का ध्यान रखना बहुत जरूरी होता है। इस दौरान असुरक्षित सम्बन्ध बनाने से इन्फेक्शन हो सकता है। इसलिए सेफ्टी का विशेष ध्यान रखें।

पीरियड्स अनियमित हैं क्या करूँ? Period aniyamit hone ke karan
अगर बार बार आपके पीरियड्स अनियमित हैं तो आप जरूर डॉक्टरी सलाह लें। हो सकता हो आपको कोई इन्फेक्शन हो सकता है।

पीरियड्स (मासिक धर्म) में क्या क्या नहीं खाना चाहिए?
खाना पौस्टिक होना चाहिए. पीरियड्स में रोज की तरह कुछ भी खा सकते हो मसाले वाले आइटम्स अवॉइड करना ही उचित सलाह है।

मासिक धर्म में गर्भधारण?
मासिक धर्म के दौरान गर्भधारण के बहुत ही काम चांस होते हैं। लगभग 1%

पीरियड के कितने दिन बाद गर्भ ठहरता है?
पीरियड के 6 वें दिन से अगले 11 दिन तक. ओवुलेशन डेज में सम्बद्ध बनाएं।

गर्भ ठहरने के कितने दिन बाद पता चलता है?
गर्भ ठहरने के १ या २ दफ्ते बाद में प्रेगनेंसी के शुरुआती लक्षण दिखाई देते हैं जैसे की उलटी होना, जी मचलाना, भूख न लगाना, स्तन का आकर बढ़ाना और निप्पल्स का रंग गहरा होना।

पीरियड के कितने दिन बाद ओवुलेशन होता है?
पीरियड सुरु होने से 14 दिन पहले से अगले 6-7 दिन तक।

प्रेगनेंसी चान्सेस इन पीरियड्स?
लगभग 1%

कैसे पता चलेगा कि मैं प्रेग्नेंट हूं?
अगर सारीश में प्रेगनेंसी के शुरुआती लक्षण दिखाई देते हैं जैसे की उलटी होना, जी मचलाना, भूख न लगाना, स्तन का आकर बढ़ाना और निप्पल्स का रंग गहरा होना। तो आप प्रेग्नेंट हो सकती हैं। डॉक्टर से जरुरी सलाह लें।

प्रेग्नेंट होने के बाद क्या पीरियड आता है?
नहीं

पीरियड के समय दर्द क्यों होता है?
शरीर में हॉर्मोन्स में बदलाव की वजह से या अधिक ब्लीडिंग से भी पीरियड के समय दर्द हो सकता है।

पीरियड के दौरान शारीरिक संबंध बनाना चाहिए या नहीं ?
दोनों पार्टनर अगर कंफर्ट हैं तो सेफ सम्बन्ध बना सकते हैं।

प्रेगनेंसी में पीरियड कैसे लाये?
प्रेगनेंसी में पीरियड पॉसिबल नहीं हैं।

प्रेगनेंसी क्यों नहीं रूकती है?
प्रेगनेंसी अगर हर बार फेल हो रही हो तो आप डॉक्टर से कंसर्ट कर सकते हैं।

पीरियड्स में क्या इस्तेमाल करना चाहिए?
पीरियड्स में साफ़ कपडे, पैड और हैंडवाश का इस्तेमाल करें। साफ़ सफाई का विशेष ध्यान दें।

मासिक धर्म में इन्फेक्शन?
अगर मासिक धर्म में इन्फेक्शन होने का खतरा महसूस हो तो डॉक्टर से जरूर सलाह लें। मासिक धर्म में सफाई का ध्यान रखें।

पीरियड्स में दूध पीना चाहिए या नहीं?
हाँ, पीना चाहिए

गर्भ कब ठहरता?
अगर कोई महिला अपने ओवुलेशन पीरियड के दौरान शारारिक सम्बन्ध बनाये तो गर्भ ठहरने के चांस बढ़ जाते हैं।

आपको हमारी पोस्ट “प्रेग्नेंसी सम्बंधित प्रश्न और उनके उत्तर” कैसी लगी कमेंट कर जरूर बताएं।

Leave a Comment