रक्षाबंधन क्यों मनाया जाता है? रक्षा बंधन का महत्व

रक्षाबंधन (राखी) का त्योहार

Raksha Bandhan Festival in Hindi

हिंदू धर्म में रक्षाबंधन का त्योहार सावन के पूर्णिमा को मनाया जाता है. रक्षाबंधन भाई और बहन के प्रेम का प्रतीक है. पूरे विश्व में हिंदू धर्म के अनुयायी इस त्योहार को खुशी और प्रेम से मनाते है. बहन अपने भाई की कलाई में रक्षासूत्र बाँधती और उसकी लंबी उमर की कामना करती हैं. भाई भी अपनी बहन की उम्रभर रक्षा करने का वचन देते है.

रक्षा बंधन 2019 में कब है?

Raksha Bandhan 2019 in Hindi

भाई-बहन के अटूट प्यार का त्योहार रक्षाबंधन, हर साल की तरह इस साल यानी 2019 में अगस्त महीने की 15 तारीख को मनाया जाएगा जो बृहस्पतिवार का दिन है.
इस साल रक्षा बंधन, स्वतंत्रता दिवस के दिन मनाया जाएगा. साल 2018 में रक्षा बंधन अगस्त महीने की 26 तारीख रविवार के दिन मनाया गया था. हिन्दी दैनिक परिवार की तरफ से आप सभी को रक्षाबंधन की हार्दिक शुभकामनायें.

रक्षाबंधन कब से मनाया जाता है?

Raksha Bandhan Kab Se Manaya Jata Hai

राखी का त्योहार कब से मनाया जाता है इस बारे अलग अलग मत और कथायें प्रचलित हैं. सबसे प्रचलित मान्यता है कि की राखी का त्योहार देवी देवताओं के समय से ही मनाया जा रहा है. माना जाता है की जब देवों और दानवों के बीच युद्ध हुआ और युद्ध में जब देवता हारने लगे, तब तभी देवतागण भगवान इंद्र के पास गये और उनसे अपने प्राणो की रक्षा करने की प्रार्थना करने लगे. देवताओं को भयभीत देखकर इंद्राणी ने उनके हाथों में रक्षासूत्र बांध दिया.  इससे देवताओं का आत्मविश्वास बढ़ा और उन्होंने दानवों पर विजय प्राप्त की.  तब से ही राखी बांधने की प्रथा शुरू हुई.

रक्षा बंधन का महत्व

Importance of Raksha Bandhan in Hindi

रक्षाबंधन का त्योहार हिंदुओं के प्रमुख त्योहारों में एक है.  इस दिन बहनें सुबह-सुबह तैयार होकर राखी की थाली तैयार करती हैं. भाइयों की दाहिनी कलाई में राखी बांधती हैं, उनका टीका करती हैं, आरती उतारती है और उनकी लंबी उम्र की कामना करती हैं. भाई भी अपनी बहन का रक्षा का वचन देता है और साथ ही कुुछ उपहार भी देते है. इस दिन घरों में पकवान बनाये जाते हैं, जिसमें मुख्‍यरूप से घेवर व सेवई होती हैं. रक्षाबंधन का त्योहार इतना पावन और पवित्र है की कोई भी बहन और कोई भी भाई इस त्योहार को मिस नही करना चाहता लेकिन कभी कभी नौकरी या किसी दूसरी वजह से रक्षाबंधन में जो बहनें अपने भाइयों से दूर होती हैं तो वो पोस्ट ऑफीस या कोरिएर के जरिए राखी भिजवाती हैं. ताकि उनके भाइयों की कलाई रखी के दिन सूनी ना रह.

रक्षा बंधन से जुड़ी कहानियां- Story of Rakhi Festival

जब शिशुपाल और श्रीकृष्ण के बीच में युद्ध चल रहा था तो यद्ध के समय श्रीकृष्ण की तर्जनी में चोट लग गई, तो द्रौपदी ने लहू रोकने के लिए अपनी साड़ी फाड़कर श्रीकृष्ण की उंगली पर बांध दी थी. कृष्ण ने चीरहरण के समय द्रौपदी की लाज बचाकर यह कर्ज चुकाया था. तभी से लोग भाई बहन के इस प्यार को राखी के त्योहार के रूप में मानने लगे.

एक अन्य प्रचलित कहानी के अनुसार सिकंदर की पत्नी ने अपने पति के शत्रु पुरु को राखी बाँधी थी. पुरु एक हिंदू शासक था जो अपने प्राक्रम के लिए जाना जाता था. सिकंदर की पत्नी ने पुरु  की कलाई में राखी बाँध कर अपन भाई बनाया था और युद्ध के समय सिकंदर को न मारने का वचन लिया था. पुरु ने भी अपनी बहन को दिए वचन का सम्मान करते हुए सिकंदर को जीवन दान दिया था.

हमारी पोस्ट रक्षाबंधन क्यों मनाया जाता है? और रक्षा बंधन का महत्व आपको कैसी लगी कॉमेंट कर ज़रूर बतायें.

COMMENTS

Leave a Comment