धनतेरस 2020 पूजा विधि और शुभ मुहूर्त कब है?

धनतेरस 2020 पूजा विधि और शुभ मुहूर्त कब है?

Dhanteras 2020 Date in India धनतेरस कब है? Dhanteras Muhurat 2020: धनतेरस कब है? धनतेरस २०२० में किस दिन मनाया जायेगा? धनतेरस, कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि को मनाया जाता है जिसे धनत्रयोदशी के नाम से जाना जाता है। धनतेरस का त्योहार 13 नवबंर 2020 को मनाया जाएगा। यह दिन बहुत ही शुभ माना जाता है हिंदू धर्म में धनतेरस का विशेष महत्व है. दीपावली पर्व को पांच दिनों तक मनाया जाता…

Read More

नीम करोली बाबा कैंची धाम Neem karoli baba in hindi

नीम करोली बाबा कैंची धाम Neem karoli baba in hindi

कैंची धाम कहाँ है? kainchi dham kaha par hai देवभूमि उत्तराखंड के नैनीताल जिले में स्थित “कैंची धाम” एक विश्व प्रसिद्ध आध्यात्मिक जगह के रूप में प्रसिद्ध है। कैंची धाम स्थित हनुमान मंदिर नीम करोली बाबा के नाम से विश्व भर में विख्यात है। यह एक ऐसी है जहां जो भी एक बार चले जाए उसकी मुराद अवश्य पूरी होती हैं। कैची धाम के बाबा नीम करौली को भगवान हनुमान का अवतार माना जाता है।…

Read More

तुंगनाथ मंदिर का इतिहास Tungnath history in hindi

तुंगनाथ मंदिर का इतिहास Tungnath history in hindi

Tungnath Temple History- तुंगनाथ मंदिर विश्व का सबसे अधिक उँचाई में स्थित भगवान शिव का मंदिर है. तुंगनाथ मंदिर समुद्रतल से 12073 फिट की उँचाई tungnath temple height पर स्थित है. भगवान शिव के पाँच केदारों में से दूसरे केदार को तुंगनाथ के नाम से जाना जाता है. कुल पाँच केदारों में तुंगनाथ का विशेष स्थान है. कहा जाता है की भगवान राम रावण का वध करने के बाद चंद्राशीला लेख आए थे और उन्होने…

Read More

चारधाम की यात्रा एवं दर्शन 2020

चारधाम की यात्रा एवं दर्शन 2020

उत्तराखंड चारधाम यात्रा की जानकारी Char Dham Yatra in Uttarakhand उत्तराखंड में स्थित चार धाम को छोटा चार धाम के नाम से जाना जाता है.  छोटा चार धाम की यात्रा हर साल होती है और यहाँ हर साल देश विदेश से लाखों की संख्या में श्रद्धालु दर्शन के लिए आते हैं. हिमालय की गोद में बसे होने के कारण यहाँ हरियाली, स्वच्छ वायु और साफ वातावरण हमेशा लोगों को अपनी ओर खिचाता है. इसलिए कई लोगो…

Read More

दिवाली पूजा विधि और शुभ मुहूरत

दिवाली पूजा विधि और शुभ मुहूरत

दिवाली हिंदुओं का सबसे बड़ा त्योहार है. दिवाली जिसे दीपावली भी कहा जाता है साल 2019 में दीवाली का त्योहार पूरे भारतवर्ष में 27 अक्तूबर रविवार के दिन मनाया जाएगा. साल 2018 में 7 नवंबर को मनाई गयी थी. इस दिन धन की देवी माँ लक्ष्मी की पूजा की जाती है. दीवाली यानी दीपावली को दीपों का त्योहार यानी “रोशनी का त्योहार” भी कहा जाता है. इस दिन घरों में दिए और मोमबत्तियाँ जलाई जाती…

Read More

धनतेरस पूजा सामग्री और शुभ मुहूर्त

धनतेरस पूजा सामग्री और शुभ मुहूर्त

धनतेरस पूजा का महत्व भारतीय संस्कृति में धनतेरस के त्योहार का बहुत ही महत्व है. इस दिन धन के देवता कुबेर जिनको धन्वंतरि भी कहा जाता है, की उपासना की जाती है. भगवान धनवंतरी को भगवान विष्णु का ही रूप माना जाता है. धनवंतरी के रूप में ही भगवान विष्णु ने संसार में सेहत, स्वास्थ और आरोग्य का प्रसार किया. इसलिए अच्छी सेहत, स्वास्थ और आरोग्य की कामना के लिए धनतेरस के दिन भगवान धनवंतरी…

Read More

धनतेरस क्यों मनाते है?

धनतेरस क्यों मनाते है?

दीवाली/दीपावली हिंदू धर्म के 4 प्रमुख त्योहारों में एक है. दीपावली का त्योहार धन की देवी माँ पार्वती को समर्पित है. दीवाली से 2 दिन पहले धनतेरस का त्योहार मनाया जाता है. जो की कार्तिक मास की कृष्ण त्रयोदशी को मनाया जाता है. हिंदू शास्त्रों के अनुसार इस दिन भगवान धनवंतरी का जन्म हुआ था. भगवान धनवंतरी समुद्र मंथन के बाद प्रकट होकर देवताओं को राजा बलि के प्रकोप से बचाया था. भगवान धनवंतरी अमृत…

Read More

जन्माष्टमी क्यों मनाते है? जन्माष्टमी पूजा मुहूर्त

जन्माष्टमी क्यों मनाते है? जन्माष्टमी पूजा मुहूर्त

जन्माष्टमी / कृष्ण जन्मोत्सव Janmashtami in Hindi हिंदू धर्म में जन्माष्टमी का त्योहार बहुत ही धूम धाम के साथ मनाया जाता है. जन्माष्टमी यानी भगवान कृष्ण के जन्म का दिन. जन्माष्टमी का त्यौहार हर साल भाद्रपद माह की कृष्ण पक्ष की अष्टमी को मनाया जाता है. जन्माष्टमी त्योहार की तैयारियां घरों और मंदिरों में 10-12 दिन पहले से ही खूब जोर-शोर से शुरू हो जाती है. लोग जन्माष्टमी के त्यौहार को पूरे जोश और उत्साह…

Read More

रक्षाबंधन क्यों मनाया जाता है?

रक्षाबंधन क्यों मनाया जाता है?

रक्षाबंधन (राखी) का त्योहार Raksha Bandhan Festival in Hindi हिंदू धर्म में रक्षाबंधन का त्योहार सावन के पूर्णिमा को मनाया जाता है. रक्षाबंधन भाई और बहन के प्रेम का प्रतीक है. पूरे विश्व में हिंदू धर्म के अनुयायी इस त्योहार को खुशी और प्रेम से मनाते है. बहन अपने भाई की कलाई में रक्षासूत्र बाँधती और उसकी लंबी उमर की कामना करती हैं. भाई भी अपनी बहन की उम्रभर रक्षा करने का वचन देते है….

Read More

वाराही देवी मंदिर देवीधुरा का इतिहास और मान्यताये

वाराही देवी मंदिर देवीधुरा का इतिहास और मान्यताये

मां वाराही देवी मंदिर देवीधुरा Varahi Devi Mandir Uttarakhand माँ वाराही देवी का मंदिर उत्तराखण्ड राज्य के लोहाघाट नगर से 60 किलोमीटर दूर स्थित देवीधुरा कस्बे में स्थित है.  देवीधुरा चंपावत जिले में स्थित है. माँ वाराही का मंदिर 52 पीठों में से एक माना जाता है. देवीधुरा स्थित शक्तिपीठ माँ वाराही का मंदिर पर्वत श्रंखलाओं के बीच स्थित है. मंदिर के चारों ओर देवदार के उँचे-उँचे पेड़ मंदिर की शोभा में चार चाँद लगाते हैं….

Read More
1 2 3 4